इक पल (IKK PAL)


कुछ तुम पर शक है मुझको
कुछ खुद पे यकीं नहीं
कभी ढूंडू तुम मे तुमको
कभी देखूं,
खुद मैं भी मैं नहीं
आधे अधुरे, फिर भी पूरे, ये चेहरे,
कुछ तेरे, कुछ मेरे
कभी कुछ कहें, तो कभी कुछ नहीं
ना पूरे ग़लत, ना पूरे सही,
बस चले जा रहे हैं,
बँधे ईक ढोर से ना जाने कहीं,
इक और बाँधे हैं परछाईयाँ,
और दूसरे पे एक कल,
जो शायद, आया कभी नहीं
बीच मे ईक छोटा सा पल,
जो जिया ही नहीं
क्योंकि,
तुम भी पूरे तुम नहीं
मैं भी पूरा मैं नहीं.

Kuch tum par shak hai mujhko
Kuch khud pe yakeen nahin
Kabhi dhoondho tum main tumko,
Kabhi dekhun,
Khud main be main nahin
Aadhe Adhoore, fir be poore, Ye chehre,
Kuch tere, kuch mere
Kabhi kuch kahen, Tou kabhi kuch nahin
Na poore galat, na poore sahi,
Bas chale jaa rahe hai
Bandhe ik dhor se na jaane kahin,
Ik or baandhe hai parchaaian,
Or doosre pe aek kal,
Jo shayad aya kabhi nahin,
Beech main ikk chota sa pal,
Jo jiya he nahi
Kyonki,
Tum be poore tum nahin,
Main be poora main nahin.

%d bloggers like this: